MP Me Sinchai Suvidha : अगले पांच सालों में प्रदेश में दोगुनी हो जाएगी सिंचाई क्षमता, किसानों को मिलेगा भरपूर पानी

MP Me Sinchai Suvidha : भोपाल। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा है कि प्रदेश में नागरिकों को पेयजल और सिंचाई के लिए जल की उपलब्धता बढ़ाने के लिए सभी आवश्यक प्रयास किए जाएं। परियोजनाओं के कार्य समय पर पूरे हों। विभाग के अधिकारी कार्यों की सतत समीक्षा करते रहें। नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में कार्य बढ़ाया जाए।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव मंत्रालय में जल संसाधन विभाग, नर्मदा नियंत्रण मंडल एवं वृहद परियोजना नियंत्रण मंडल के कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में बताया गया कि प्रदेश का सिंचाई क्षेत्र अगले पांच साल में एक करोड़ हेक्टेयर को पार कर जाएगा।

ओंकारेश्वर के फ्लोटिंग प्लांट से ऊर्जा उत्पादन शीघ्र प्रारंभ होगा। नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र की 250 मेगावाट सौर ऊर्जा क्षमता की इस परियोजना से प्रारंभ में 50 मेगावाट उत्पादन होगा। बैठक में जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट, मुख्य सचिव श्रीमती वीरा राणा भी उपस्थित थीं।

सीएम ने जिलावार प्राप्त की जानकारी (MP Me Sinchai Suvidha)

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने प्रदेश की सिंचाई क्षमताओं की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि वृहद, मध्यम और लघु सिंचाई योजनाओं के माध्यम से सिंचित क्षेत्र में वृद्धि की जाए। शासकीय स्रोतों से सिंचाई प्रतिशत की जिलावार जानकारी प्राप्त करते हुए मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने उन जिलों में सिंचाई योजनाओं के क्रियान्वयन की गति बढ़ाने के निर्देश दिए जहां वर्तमान में सिंचाई प्रतिशत अपेक्षाकृत कम है।

अभी इतना क्षेत्र होता है सिंचित (MP Me Sinchai Suvidha)

बैठक में जानकारी दी गई कि प्रदेश में जल संसाधन विभाग के माध्यम से वर्तमान में 41. 10 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई हो रही है। नर्मदा घाटी विकास विभाग द्वारा 8.85 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई की जा रही है, इस तरह कुल 50 लाख हेक्टेयर क्षेत्र सिंचित है।

पांच सालों में पूरी होगी परियोजनाएं (MP Me Sinchai Suvidha)

प्रदेश में निर्माणाधीन सिंचाई योजनाओं के पूर्ण होने पर सिंचाई क्षेत्र जल संसाधन विभाग का 23.66 लाख हेक्टेयर और नर्मदा घाटी विकास विभाग का 43. 21लाख हेक्टेयर बढ़ जाएगा। इन योजनाओं के आगामी 5 वर्ष में पूर्ण हो जाने पर प्रदेश की सिंचाई क्षमता 93 लाख हेक्टेयर से ज्यादा हो जाएगा।

साल-दर-साल बढ़ेगा सिंचाई क्षेत्र (MP Me Sinchai Suvidha)

बैठक में जानकारी दी गई कि जल संसाधन विभाग के कार्यों से प्रदेश में वर्ष दर वर्ष सिंचाई क्षेत्र बढ़ता जाएगा। वर्ष 2024 में 2.75, वर्ष 2025 में 4.21, वर्ष 2026 में 4.62, वर्ष 2027 में 5.74 और वर्ष 2028 में 6.34 लाख हेक्टेयर सिंचाई क्षेत्र का विस्तार होगा। इस तरह इन पांच वर्ष में जल संसाधन विभाग द्वारा 23.66 लाख हेक्टेयर सिंचाई क्षेत्र में वृद्धि के लिए कार्य पूरे हो जाएंगे।

पेयजल के रूप में भी मिलेगा पानी (MP Me Sinchai Suvidha)

केन बेतवा परियोजना, संशोधित पार्वती सिंध परियोजना और एनवीडीए की अन्य प्रस्तावित महत्वपूर्ण परियोजनाओं से भी प्रदेश में 19.25 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा बढ़ेगी। इस तरह प्रदेश की सिंचाई क्षमता एक करोड़ हेक्टेयर से अधिक हो जाएगी। किसानों को सिंचाई सहित पेयजल के लिए अधिक सुविधा मिलेगी।

अर्थव्यवस्था को मिलेगा बढ़ावा (MP Me Sinchai Suvidha)

उद्योगों के लिए भी जल उपलब्धता बढ़ने से अर्थ व्यवस्था को लाभ पहुंचेगा। बैठक में अपर मुख्य सचिव जल संसाधन एवं नर्मदा घाटी विकास विभाग डॉ. राजेश राजौरा ने प्रदेश के सिंचाई परिदृश्य पर प्रजेंटेशन दिया।

Admin
Admin  

Related Articles

Next Story
Share it